Hindi, asked by anweren, 9 days ago

निम्नलिखित गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर पूछे गए प्रश्न का उत्तर चुनिए ।

मनुष्य के जीवन में लक्ष्य का होना बहुत आवश्यक है । लक्ष्य के बिना जीवन दिशाहीन तथा व्यर्थ ही है । एक बार एक दिशाहीन युवा आगे बढ़े जा रहा था, राह में महात्मा जी की कुटिया देख रूककर महात्मा जी से पूछने लगा कि यह रास्ता कहाँ जाता है? महात्मा जी ने पूछा, “ तुम कहाँ जाना चाहते हो?” युवक ने कहा “मैं नहीं जानता मुझे कहाँ जाना है ।” महात्मा जी ने कहा, “जब तुम्हें पता ही नहीं है कि तुम्हें कहाँ जाना है, तो यह रास्ता कहीं भी जाए, इससे तुम्हें क्या फर्क पड़ेगा ।” कहने का मतलब है कि बिना लक्ष्य के जीवन में इधर-उधर भटकते रहने पर कुछ भी प्राप्त नहीं कर पाओगे । यदि कुछ करना चाहते हो तो पहले अपना एक लक्ष्य बनाओ और उस पर कार्य करो । अपनी राह स्वयं बनाओ । वास्तव में जीवन उसी का सार्थक है जिसमें परिस्थितियों को बदलने का साहस है ।

गांधीजी कहते थे कुछ न करने से अच्छा है, कुछ करना । जो कुछ करता है वही सफल-असफल होता है । हमारा लक्ष्य कुछ भी हो सकता है, क्योंकि हर इनसान की अपनी-अपनी क्षमता होती है और उसी के अनुसार वह अपना लक्ष्य निर्धारित करता है । जैसे विद्यार्थी का लक्ष्य है सर्वाधिक अंक प्राप्त करना तो नौकरी करने वालों का लक्ष्य होगा पदोन्नति प्राप्त करना । इसी तरह किसी महिला का लक्ष्य आत्मनिर्भर होना हो सकता है । ऐसा मानना है कि हर मनुष्य को बड़ा लक्ष्य बनाना चाहिए किंतु बड़े लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए छोटे-छोटे लक्ष्य बनाने चाहिए । जब हम छोटे लक्ष्य प्राप्त कर लेते हैं तो बड़े लक्ष्य को प्राप्त करने का हममें आत्मविश्वास आ जाता है । स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि जीवन में एक ही लक्ष्य बनाओ और दिन-रात उसी के बारे में सोचो । स्वप्न में भी तुम्हें वही लक्ष्य दिखाई देना चाहिए, उसे पूरा करने की एक धुन सवार हो जानी चाहिए । बस सफलता आपको मिली ही समझो । सच तो यह है कि जब आप कोई काम करते हैं तो यह जरुरी नहीं कि सफलता मिले ही लेकिन असफलता से भी घबराना नहीं चाहिए । इस बारे में स्वामी विवेकानंद जी कहते हैं कि हजार बार प्रयास करने के बाद भी यदि आप हार कर गिर पड़ें तो एक बार पुनः उठें और प्रयास करें । हमें लक्ष्य प्राप्ति तक स्वयं पर विश्वास रखना चाहिए ।

मनुष्य के जीवन में बहुत आवश्यक है -

a. दिशा
b. लक्ष्य
c. रास्तादिशाहीन युवा को रास्ते में क्या दिखा?

a. भवन
b. महल
c. कुटिया
d. खेत

d. हमराहीगद्यांश के अनुसार विद्यार्थी का क्या लक्ष्य हो सकता है?

a. सर्वाधिक डिग्रियाँ प्राप्त करना ।
b. खेल-कूद में समय बिताना ।
c. बड़ों की आज्ञा का पालन करना ।
d. सर्वाधिक अंक प्राप्त हर इनसान किसके अनुसार अपना लक्ष्य निर्धारित करता है?

a. अपनी-अपनी क्षमता के अनुसार
b. अपनी बुद्धि के अनुसार
c. किसी की सलाह के अनुसार
d. अपनी दौलत के अनुसारकरना
वास्तव में जीवन किसका सार्थक है?

a. जिसमें बहुत हुनर है ।
b. जिसमें परिस्थितियों को बदलने का साहस है ।
c. जिसमें बल है ।
d. जिसमें बुद्धि है ।गद्यांश के अनुसार गांधीजी क्या कहते थे?

a. लक्ष्य को लिखना चाहिए ।
b. मन के विरूद्ध कुछ नहीं करना चाहिए ।
c. स्वावलंबी होना चाहिए ।
d. कुछ न करने से अच्छा है, कुछ करना चाहिए ।

Answers

Answered by gunagunavathi16
0

Answer:

the lesson jjj

Similar questions